Kostenlose Uhr fur die Seite website clocks

सोमवार

शहंशाह ने दिया तोहफ़ा


अभी सप्ताह भर पटना में रहा, छोटी सी मुलाकात में शहंशाह आलम ने अपनी नयी पुस्तक ‘अच्छे दिनों में ऊँटनियों का कोरस’ भेंट किया। इसके पूर्व उनकी दो अन्य संग्रह प्रकाशित हो चुकी है, ’गर दादी की कोई खबर आए’(1993) और ‘अभी शेष है पृथ्वी राग’ (1995)। अभी प्राप्त संग्रह में अच्छे संकेत दिखते हैं,- इसमें मुश्किल वक्त से गुजरते मानव-सभ्यता के लिये उत्साह और उम्मीद का पैगाम है। प्रस्तुत है ‘अच्छे दिनों में ऊँटनियों का कोरस’ से सायकिल शीर्षक कविता-

खेल-खेल में
ईजाद नहीं हुआ होगा
सायकिल का

लेकिन खेल-खेल में
सीख जाते हैं
सायकिल चलाना लड़के

दो

हमारे शरीर की तरह
पंचभूतों से ही बनी लगती है
यह सायकिल

सोचता हूँ भर जी सोचता हूँ
सायकिल सिर्फ़ सायकिल क्यों है
क्यों नहीं है
एक संपूर्ण देह
जिसमें कि
एक बेचैन आत्मा
वास कर रही है।

4 टिप्‍पणियां:

अक्षर जब शब्द बनते हैं ने कहा…

अच्छी कविता है। शहंशाह आलम को मेरी ओर से नई पुस्तक के लिये बधाई भाई!-
सुशील कुमार

शरद कोकास ने कहा…

बहुत प्यारी कविता है शहंशाह की यह ..मेरी बधाई और प्यार..

rajita ने कहा…

one of the most tuching poetries i have ever read

योगेंद्र कृष्णा Yogendra Krishna ने कहा…

शहंशाह को नई पुस्तक के लिए ढेरों शुभकामनाएं…
ब्लॉग के लिए आपको भी।

Related Posts with Thumbnails